लिरिक्स - भोले ओ भोले लखबीर सिंह लख्खा Bhole O Bhole Lakhbir Singh Lakha Lyrics

भोले ओ भोले लखबीर सिंह लख्खा जी 

Singer - Lakhbir Singh Lakha Ji

Lyrics Track - Bhole O Bhole Lakhbir Singh Lakha  




भोले ओ भोले,
तू रूठा जग छूटा,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भोले ओ भोले,
क्यों  रूठा जग छूटा,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे। 



तू रूठा तो भवर से,
फिर हम न तर सकेंगे,
मेरे भोले पार बड़ा,
फिर हम न तर सकेंगे,
कठिन परीक्षा आज है तेरी,
हाथ में तेरे लाज है मेरी,
नाथ हे डमरू वाले,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे। 





मेरे भोले जो मुझको,
तू दे नहीं सहारा,
शंकर तेरे भक्तो का,
होगा कहाँ गुजरा,
हे डमरूधर शंकर आओ,
एक पल की ना देर लगाओ,
भक्तो के रखवाले,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे। 



मेरे भोले तू जगत का,
संकट जो ना हारेगा,
कोई तेरी फिर जग में,
पूजा नहीं करेगा,
विनती सुन 'शर्मा' की आओ,
'लख्खा' का तुम कष्ट मिटाओ,
आज हे भोले भोले,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे। 





भोले ओ भोले,
तू रूठा जग छूटा,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भोले ओ भोले,
क्यों  रूठा जग छूटा,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे,
भव पार तू लगा दे,
अब हाथ तू बड़ा दे।








0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने