लिरिक्स : हारना भी जरुरी था Haarna Bhi Jaruri Tha Lyrics

हारना भी जरुरी था

Singer - Shubham Rupam

Lyrics Track - Haarna Bhi Jaruri Tha




तेरे दरबार में इस सर का,
झुकना भी जरुरी था,
मेरी आँखों से आंसू का,
टपकना भी जरुरी था,
बताऊँ क्या तुम्हे बाबा,
पता है सब भला तुम को,
जीतने के लिए हमको,
हारना भी जरुरी था। 



भटकते जो नहीं दर दर,
तुम्हारा द्वार ना मिलता,
सताए जो नहीं जाते,
तुम्हारा प्यार न मिलता,
तो क्या होता हमें जो,
खाटू का ये धाम न मिलता,
मिला है आज जो बाबा,
हमें  वो नाम न मिलता,
मगर अब याद आता है,
वो जग की ठोकरे खाना,
कंकरो से भरे रस्तों पे,
चलना भी जरुरी था,
तेरे दरबार में इस सर का,
झुकना भी जरुरी था। 



ये मांगू और क्या तुमसे,
तुम्हारा साथ काफी है,
मेरी हर जीत के पीछे,
तुम्हारा हाथ काफी है,
मेरे होंठो से निकले,
बस तुम्हारा नाम काफी है,
मेरे भजनो से रीझो,
बस प्रभु वो भाव काफी है,
मगर अब बेफिकर है हम,
तुम्हारा साथ है सिर पे,
'शुभम रूपम' को खाटू से,
गुजरना भी जरुरी था,
तेरे दरबार में इस सर का,
झुकना भी जरुरी था। 



तेरे दरबार में इस सर का,
झुकना भी जरुरी था,
मेरी आँखों से आंसू का,
टपकना भी जरुरी था,
बताऊँ क्या तुम्हे बाबा,
पता है सब भला तुम को,
जीतने के लिए हमको,
हारना भी जरुरी था। 


0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने