लिरिक्स : खाटू में जाके देखो फागण में क्या मजो है Khatu Me Jake Dekho Fagun Me Ke Majo Hai Lyrics

खाटू में जाके देखो फागण में क्या मजो है

Singer - Shubham Rupam

Lyrics Track - Khatu Me Jake Dekho Fagun Me Ke Majo Hai




ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है,
खाटू में जाके देखो,
फागण में क्या मजो है,
ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है। 



मेले में भक्त आवे,
सागे निशान ल्यावे,
आवे पगा उघाड़ा,
कई परसता आवे,
मंदिर शिखर के ऊपर,
टांगण में क्या मजो है,
ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है। 



केसर गुलाब घोली,
बाबे सू खेले होली,
गावे बजावे नाचे,
भक्ता की मिल के टोली,
भक्ति में मस्त होकर,
नाचण में के मजो है,
ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है। 



साँचो है श्याम बिहारी,
महिमा है ऐ की न्यारी,
'ताराचंद' मन की इच्छा,
पूरी कर सी वो बाहरी,
बिन मांग्योड़ो मिले है,
माँगण में के मजो है,
ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है। 




ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है,
खाटू में जाके देखो,
फागण में क्या मजो है,
ज्योति में के मजो है,
कीर्तन में के मजो है।


0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने