लिरिक्स : किरपा को क्या मैं गाऊं किरपा से गा रहा हूँ Kripa Ko Kya Main Gaau Kripa Se Ga Raha Hoon Lyrics

किरपा को क्या मैं गाऊं किरपा से गा रहा हूँ

Singer - shubham Rupam

Lyrics Track - Kripa Ko Kya Main Gaau Kripa Se Ga Raha Hoon



किरपा को क्या मैं गाऊं,
किरपा से गा रहा हूँ,
खुश किस्मत है मेरी,
इनको रिजा रहा हूँ,
किरपा को क्या मैं गाऊँ,
किरपा से गा रहा हूँ। 



भावों के समुंदर में,
जिस ने मुझे तिराया,
उनके दिए ही भावों में,
उनको डूबा रहा हूँ,
किरपा को क्या मैं गाऊँ,
किरपा से गा रहा हूँ। 



थोड़ा सा क्या सजाया,
मन में गुमान आ गया,
जिसने मुझे सजाया,
मैं उसको सजा रहा हूँ,
किरपा को क्या मैं गाऊँ,
किरपा से गा रहा हूँ। 



सुनलो ऐ दुनिया वालो,
अंदर की बात है ये,
वो बीज बो रहा है,
और फल मैं खा रहा हूँ,
किरपा को क्या मैं गाऊँ,
किरपा से गा रहा हूँ। 



इनकी किरपा का वर्णन,
ग्रंथो में भी न हो सका,
'शुभम रूपम' जो भी सुना,
वो गुनगुना रहा हूँ,,
किरपा को क्या मैं गाऊँ,
किरपा से गा रहा हूँ। 




किरपा को क्या मैं गाऊं,
किरपा से गा रहा हूँ,
खुश किस्मत है मेरी,
इनको रिजा रहा हूँ,
किरपा को क्या मैं गाऊँ,
किरपा से गा रहा हूँ। 


0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने