लिरिक्स : दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ Dayalu Tumari Daya Chahta Hun Lyrics

दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ

Singer - Sanjay Mittal Ji

Lyrics Track - Dayalu Tumari Daya Chahta Hun Lyrics




दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ,
दया चाहता हूँ,
चरणों में थोड़ी जगह चाहता हूँ,
जगह चाहता हूँ। 



अज्ञानता ने डेरा जमाया,
किया मन को चंचल ऐसा लुभाया,
लेलो शरण में शरण चाहता हूँ,
शरण चाहता हूँ,
दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ,
दया चाहता हूँ। 



उठे चाहे आंधी तूफ़ान आये,
मेरे मन को भगवान डीगा नहीं पाए,
विश्वाश ऐसा तेरा चाहता हूँ,
तेरा चाहता हूँ,
दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ
दया चाहता हूँ। 



नजरे कर्म गर हुई ना तुम्हारी,
रहेगी उजड़ती आशा की क्यारी,
खिले फूल गुलशन सदा चाहता हूँ,
सदा चाहता हूँ,
दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ,
दया चाहता हूँ। 



विनती सुनो न मेरी कन्हैया,
मिले भीख तेरी दया की कन्हैया,
'नन्दू' दीवाना बनु चाहता हूँ,
बनु चाहता हूँ,
दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ,
दया चाहता हूँ। 




दयालु तुम्हारी दया चाहता हूँ,
दया चाहता हूँ,
चरणों में थोड़ी जगह चाहता हूँ,
जगह चाहता हूँ।


0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने