लिरिक्स : ऐ दो जहाँ के मालिक मेरी खता बता दे Ae Do Jahan Ke Malik Meri Khata Bata de Lyrics

ऐ दो जहाँ के मालिक मेरी खता बता दे

Singer - Priti Sargam

Lyrics Track - Ae Do Jahan Ke Malik Meri Khata Bata de




ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे,
चरणों दूर कान्हा,
तूने क्यों किया बता दे,
ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे। 



जीने को जी रहा हूँ,
लेकिन मजा नहीं है,
तुमसे जो दूरिया है,
क्या ये सजा नहीं है,
मुझे थाम ले दयालु ,
ये फासले मिटा दे,
ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे। 



दुनिया की दौलतों की,
चाह नहीं है दाता,
चरणों में बीएस जगह दे,
दे दे मेवे विधाता,
हाथों को मेरे सर पे,
ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे। 



तेरे पथ पे चल रहा हूँ,
आशा है तू मिलेगा,
उम्मीद का ये दीपक,
एक दिन प्रभु जलेगा,
तेरे 'हर्ष' के ह्रदय का,
अँधियारा तू मिटा दे,
ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे। 




 ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे,
चरणों दूर कान्हा,
तूने क्यों किया बता दे,
ऐ दो जहाँ के मालिक,
मेरी खता बता दे।


0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने