लिरिक्स : भोले शंकर दानी तू जग का विधाता है Bhole Shankar Dani Tu Jag Ka Vidhata Hai Lyrics

भोले शंकर दानी तू जग का विधाता है

Singer - Saurabh-Madhukar

Lyrics Track - Bhole Shankar Dani Tu Jag Ka Vidhata Hai




भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है,
अपने भक्तों का तू,
अपने भक्तों का तू,
बस दिन दाता है,
भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है।



जब दुनिया सोती है,
तब तू ही जगता है,
जग का पालन पोषण,
बस भोला करता है,
भक्तों के कष्टों को,
भक्तों के कष्टों को,
तू दूर भगाता है,
भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है।



कोई दूध से नहलाए,
जल कोई चड़ा जाए,
कोई उख का जल सींचे,
कोई भांग पीला जाए,
कोई आक धतूरे का,
कोई आक धतूरे का,
तुझे भोग लगता है,
भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है।



किस्मत ही बदल डाले,
जो नाम जपे तेरा,
आफत से तू टाले,
जो ध्यान धरे तेरा,
चरणों में 'हर्ष' तेरे,
कोई आक धतूरे का,
ये शीश झुकाता है,
भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है।




भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है,
अपने भक्तों का तू,
अपने भक्तों का तू,
बस दिन दाता है,
भोले शंकर दानी,
तू जग का विधाता है।


0/Post a Comment/Comments

और नया पुराने