लिरिक्स : गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी Gurudev Kripa Agar Ho Tumhari Lyrics

गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी

Singer - Devendra Pathak

Lyrics Track - Gurudev Kripa Agar Ho Tumhari




निकल जाए नैया भवर से हमारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी।



प्रखर ज्ञान की राह हमको दिखा दो,
प्रखर ज्ञान की राह हमको दिखा दो,
अंधियारा मेरे मन का मिटा दो,
खिल जाए मेरी किस्मत की क्यारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी।



तेरी दृष्टि सारे जहाँ से निराली,
गुरु दृष्टि सारे जहाँ से निराली,
उनत्ति के पथ पर ले जाने वाली,
कदमों में दुनिया झुक दूंगा में सारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी।



'देवेन्द्र' मंजिल तुम्ही से ह पाता,
'देवेंद्र' मंजिल गुरु से है पाता,
चरणों मे गुरु तेरे बसते विधाता,
'कुलदीप'  कितनों की बिगड़ी सँवारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी।




निकल जाए नैया भवर से हमारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी,
गुरुदेव किरपा अगर हो तुम्हारी।


0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने